Wednesday, February 1, 2023
HomeNationalAjab-Gajab:इंग्लैंड से वापस लौटकर की खेती, अब कमा रहा करोड़ों !

Ajab-Gajab:इंग्लैंड से वापस लौटकर की खेती, अब कमा रहा करोड़ों !

- Advertisement -

Ajab-Gajab – पंजाब के जगमोहन सिंह नागी मक्का, सरसों और गेहूं के अलावा कई मौसमी सब्जियां (seasonal vegetables)जैसे गाजर, चुकंदर, पत्ता गोभी, टमाटर उगाते हैं। वह इन उत्पादों की आपूर्ति बड़ी कंपनियों को करता है। वह इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, दुबई, हांगकांग (hong kong)को बड़े पैमाने पर अपने उत्पादों का निर्यात कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनके साथ करीब तीन सौ किसान जुड़े हुए हैं.

Ajab-Gajab – पंजाब के बटला(Batla) के रहने वाले जगमोहन सिंह नागी(Jagmohan Singh Nagi) ने 63 साल की उम्र पार कर ली है. इस उम्र में वह कृषि (agriculture)में काफी सक्रिय हैं। उन्होंने उन लोगों को गलत साबित(proven wrong) कर दिया जो कहते हैं कि खेती से अच्छा लाभ नहीं होता है। वह लंबे समय से कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग (contract farming )कर रहे हैं। इसके जरिए आज उन्होंने करोड़ों रुपये की संपत्ति बना ली है.

- Advertisement -

टर्नओवर 7 करोड़ से ज्यादा– Ajab-Gajab

जगमोहन सिंह नागी के मुताबिक, वह मक्का, सरसों और गेहूं के अलावा कई मौसमी सब्जियां(seasonal vegetables) जैसे गाजर, चुकंदर, पत्ता गोभी, टमाटर उगाते हैं। वह इन उत्पादों की आपूर्ति बड़ी कंपनियों को करता है। वह इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, दुबई, हांगकांग को बड़े पैमाने पर अपने उत्पादों का निर्यात भी कर रहे हैं। इनसे करीब तीन सौ किसान जुड़े हुए हैं। इसके जरिए वह 300 एकड़ जमीन पर ठेके पर खेती कर रहे हैं। फिलहाल वह सालाना 7 करोड़ रुपये से ज्यादा कमा रहे हैं।

जगमोहन सिंह नागी ने कहा कि उनके पिता भारत-पाकिस्तान(India-Pakistan) विभाजन से पहले कराची में रहते थे। फिर वे मुंबई चले गए, जहाँ से वे वापस पंजाब चले गए और एक आटा चक्की की मरम्मत का व्यवसाय शुरू किया। जब मेरे पिता इस क्षेत्र में काम कर रहे थे, तब मेरी भी खाद्य व्यवसाय (food business) में रुचि थी। अपनी प्राथमिक शिक्षा पूरी करने के बाद, वह खाद्य अनाज मिलिंग और इंजीनियरिंग (Grain Milling & Engineering) में डिप्लोमा करने के लिए इंग्लैंड चले गए। फिर वह वापस आया और कृषि(maid and agriculture) से जुड़े व्यवसाय में हाथ आजमाने लगा।

मक्का की खेती से शुरू हुआ कारोबार – Ajab-Gajab

उन्होंने मकई मिलिंग यानी मकई प्रसंस्करण(corn processing) का व्यवसाय शुरू किया। उन्होंने हिमाचल के किसानों से मक्का खरीदना शुरू किया। लेकिन इसकी परिवहन लागत बहुत अधिक है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए उन्होंने खुद मकई की खेती शुरू की। इस समय पंजाब कृषि विश्वविद्यालय (Agricultural University) के साथ एक समझौते पर भी हस्ताक्षर किए गए थे। 1991 में, मैंने अनुबंध खेती शुरू की। किसानों से अपनी फसल खरीदना शुरू कर दिया। इससे मेरे अलावा किसानों को भी अच्छी आमदनी होने लगी।

बड़ी कंपनियां हमारे उत्पाद बेचती हैं – Ajab-Gajab

जगमोहन सिंह नागी (Jagmohan Singh Nagi) के मुताबिक वह अपना मक्का बड़ी-बड़ी स्नैक्स और पिज्जा(Snacks and Pizza) कंपनियों को बेच रहे हैं. अब वह कैनिंग और सब्जी (Canning and Vegetable)के कारोबार में भी हाथ आजमा रहे हैं। सरशन का साग, दाल मखनी जैसे पारंपरिक पंजाबी भोजन( traditional punjabi food)के अलावा, हमने बेबी कॉर्न, स्वीट कॉर्न का व्यवसाय भी शुरू किया है। वर्तमान में वह जैविक गेहूं के आटे और मकई के आटे पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। वह स्थानीय बाजार में बेचकर अच्छा मुनाफा कमा रहा है। वह भविष्य में सरसों तेल प्रसंस्करण, चावल और चिया बीज की खेती शुरू करने की भी सोच रहे हैं।

युवाओं को भी किया जा रहा प्रशिक्षण – Ajab-Gajab

जगमोहन सिंह नागी ने कहा कि नई पीढ़ी कृषि से दूर जा रही है। उन्हें प्रोत्साहित (encouraged) करने के लिए गांव-गांव कृषि आधारित कारोबार को बढ़ाया जाना चाहिए। इस संबंध में सरकार को किसानों की मदद करनी चाहिए। प्रशिक्षण कार्यक्रम भी शुरू किए जाने चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि अधिक से अधिक किसान कृषि से जुड़े व्यवसाय से जुड़ रहे हैं, इसके लिए वे कृषि में रुचि रखने वाले युवाओं को भी प्रशिक्षित करते हैं.

also read – kisan संघर्ष समिति ने 10 साल पुराने एक मामले की निष्पक्ष जांच कराए जाने मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन

Ajab-Gajab:इंग्लैंड से वापस लौटकर की खेती, अब कमा रहा करोड़ों  !
photo by mee

also read – Electricity Connection Rates Announced : एमपी के 16 जिलों के लिए सिंचाई के बिजली कनेक्शनों की दरें घोषित, देखें कहां देना होगा कितना बि

Ajab-Gjab:इंग्लैंड से वापस लौटकर की खेती, अब कमा रहा करोड़ों  !
photo by google
- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular