Friday, March 1, 2024
HomeMadhya PradeshMP: अपनों से ही घिरे सीएम शिवराज, क्या मध्यप्रदेश में बंद करा...

MP: अपनों से ही घिरे सीएम शिवराज, क्या मध्यप्रदेश में बंद करा पाएंगे शराबबंदी

- Advertisement -

MP: भोपाल, मध्यप्रदेश के भाजपा में इन दिनों शराबबंदी को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) अपनों के ही जाल में फंस गए हैं क्या इस जाल को काट पाएंगे या फिर इसी में फंस जाएंगे जहां पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती (uma bharati) ने मध्यप्रदेश (madhyapradesh) में शराबबंदी को लेकर बिगुल (bigul) छोड़ दिया है वही एक मंत्री भी शराबबंदी के समर्थन में आगे आ गए हैं ऐसे में यही आकलन लगाया जा रहा है कि भाजपा (bjp) में भी गुटबाजी अब सामने आती दिखाई दे रही है.

- Advertisement -

आपको बता दें कि मध्य प्रदेश मैं एक तरफ शराब विक्रय करने की अनुमति मध्यप्रदेश सरकार ने दी है वहीं दूसरी ओर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मध्य प्रदेश की जनता से कहते हैं कि अवैध कारोबार मध्यप्रदेश में नहीं चलने दिया जाएगा लेकिन मध्यप्रदेश में अवैध कारोबार के साथ-साथ अवैध शराब का धंधा चरम सीमा पर बना हुआ है मध्य प्रदेश के युवा शराब के इस कारोबार के चलते दलदल में फंसते जा रहे हैं आए दिन शराब के चलते बहनों का घर टूट रहा है आखिर शिवराज सिंह चौहान को अब बहनों की याद क्यों नहीं आ रही है इस तरह की जुमलेबाजी मध्य प्रदेश की राजनीति में देखने और सुनने को मिल रही है. MP

फिर एक बार उमा भारती में मध्य प्रदेश की राजनीति में गर्माहट पैदा कर दी है बता दें कि मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने मध्यप्रदेश में शराबबंदी की बिगुल छेड़ दी है उन्होंने कहा है कि मध्य प्रदेश में शराब का कारोबार हर हालत में बंद किया जाए क्योंकि इस शराब से जिंदगी या बर्बाद हो रही हैं और बहनों के घर उजड़ गए हैं वही मध्य प्रदेश के एक मंत्री ने भी इस तरह का बयान दिए हैं ऐसे में अब यही कयास लगाए जा रहे हैं कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपनों के ही जाल में हंसते हुए दिखाई दे रहे हैं क्या इस जाल को तोड़ने का रास्ता सीएम शिवराज खो जाएंगे या फिर मध्यप्रदेश में शराबबंदी करेंगे इसको लेकर कयासों का दौर तेजी से चल रहा है. MP

बताया जाता है कि मध्यप्रदेश में शराबबंदी को लेकर जहां उमा भारती और एक मंत्री ने बयान दिए हैं जिसके चलते भाजपा भी परेशान नजर दिख रही है इस बयानबाजी से कांग्रेश ने आड़े हाथ लेते हुए भाजपा पर तीखा प्रहार किया है कांग्रेस ने आरोप में कहा है कि जब भाजपा के ही लोग शराबबंदी के लिए बिगुल छोड़ दिया है ऐसे में सीएम शिवराज सिंह चौहान को निर्णय लेने की जरूरत है. MP

यह भी पढ़े — CM शिवराज अतिथि शिक्षकों को समझते हैं दिहाड़ी मजदूर! 13000 से ज्यादा भर्ती एवं सेवा समाप्ति के आदेश जारी 

यह भी पढ़े — MP vecancy: 35 जिलों के सरकारी बैंको में निकली कंप्यूटर ऑपरेटर और मैनेजर की बंपर भर्ती, जानें आपके जिले में कितनी खाली है पोस्ट…

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular