Monday, March 4, 2024
HomeBusinessMost Expensive Wool- इस जानवर से मिलता है दुनिया का सबसे महंगा...

Most Expensive Wool- इस जानवर से मिलता है दुनिया का सबसे महंगा ऊन, मोजा 80 हजार, मफलर 5 लाख, कोट 10 लाख, जानिए खासियत

- Advertisement -

Most Expensive Wool- विकुना (Vicuna ) दुनिया में सबसे लुप्तप्राय जानवरों में से एक है और केवल 2 लाख विकुना ही बचे हैं।  इनसे प्राप्त ऊन बहुत नर्म (The resulting wool is very soft ) , महीन और आरामदायक ( Fine and comfortable ) होती है।  यही कारण है कि भारतीय कश्मीरी पश्मीना ( Indian cashmere pashmina ) बकरियों से प्राप्त ऊन की तुलना में  विकुना ऊन बहुत अधिक महंगा है।   विकुना ऊन की कीमत 50,000 रुपये प्रति किलो है.

- Advertisement -

Most Expensive Wool- सबसे महंगा ऊन- विकुना ऊन बहुत नरम, महीन और आरामदायक होता है।  यही कारण है कि विकुना ऊन भारत की कश्मीरी पश्मीना से कई गुना महंगी और गर्म होती है।  इसके मफलर को बनाने में 5 लाख का खर्च आता है. Most Expensive Wool

विकुना दुनिया के सबसे विलुप्त जानवरों में से हैं.

वर्तमान में दुनिया में केवल 2 लाख विकुना बचे हैं.

इनकी ऊन बहुत मुलायम, महीन और आरामदायक होती है.

यदि मोज़े की कीमत 80 हजार रुपये, मफलर की कीमत 5 लाख से अधिक और एक कोट की कीमत 10 लाख से अधिक है, तो इसे कौन खरीद सकता है?  आपके या हमारे बगल में रहने वाले ( Those who live next to you or us ) अमीर लोग भी इसे खरीदने की हिम्मत नहीं कर सकते।  हम बात कर रहे हैं दुनिया के सबसे महंगे ऊन (The most expensive wool) की।  इसका नाम विकुना वूल है।  यह ऊन भेड़ या बकरियों से नहीं लिया जाता है, बल्कि एक लुप्तप्राय जानवर के बालों से बनाया जाता है, जिसे विकुना कहा जाता है. Most Expensive Wool

विकुना लामाओं के बौने ऊंट जैसे रिश्तेदार हैं।  ये जीव पेरू के एंडीज पहाड़ों में पाए जाते हैं।  इनकी हाइट करीब 3 फीट है।  विकुना दुनिया में सबसे लुप्तप्राय जानवरों में से एक है और केवल 2 मिलियन विकुना  ही बचे हैं।  इनसे प्राप्त ऊन बहुत नर्म, महीन और आरामदायक होती है।  यही कारण है कि भारतीय कश्मीरी पश्मीना बकरियों से प्राप्त ऊन की तुलना में  विकुना ऊन बहुत अधिक महंगा है।   विकुना  ऊन की कीमत 50,000 रुपये प्रति किलो है।  वहीं, पश्मीना ऊन 6,600 रुपए प्रति किलो तक बिक रही है

क्‍यों है इतना महंगा 

विकुना ऊन के महंगे होने के कई कारण हैं।  पहला कारण इसकी गुणवत्ता है।  विकुना ऊन दुनिया में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले बेहतरीन रेशों में से एक है।  एक विकुना फाइबर लगभग 12 माइक्रोन या एक मिलीमीटर के 12 हजारवें हिस्से को मापता है।  इसलिए यह अविश्वसनीय रूप से नरम है।  विकुना ऊन बहुत धीरे-धीरे बढ़ती है।  काटने के बाद वापस बढ़ने में 3 साल तक का समय लग सकता है।  एक विचुना से केवल 500 ग्राम ऊन प्राप्त की जा सकती है।  ये चीजें इस ऊन को बहुत ही दुर्लभ और मूल्यवान बनाती हैं।  विकुना बहुत गर्म है।  इससे बने कपड़े दुनिया के सबसे ठंडे इलाकों में भी ठंड से बचाते हैं।  विकुना ऊन कश्मीरी पश्मीना की तुलना में 10 प्रतिशत हल्का है और हाइपोएलर्जेनिक भी है।

शर्ट की कीमत 4 लाख से ऊपर है

इतालवी कंपनी लोरो पियाना दुनिया भर में विकुना ऊन से बने कपड़े ऑनलाइन ( vicuña wool se bane clothes online ) बेचती है।  लोरो पियाना की वेबसाइट के मुताबिक कंपनी ने विकुना  वूल से बनी शर्ट की कीमत 4 लाख 23 हजार रुपये है.  वहीं, इससे बनने वाले कोट की कीमत 11 लाख 44 हजार रुपये है।  विकुना वूल से बने पेंट की कीमत करीब 9 लाख रुपए है।

Most Expensive Wool- इस जानवर से मिलता है दुनिया का सबसे महंगा ऊन, मोजा 80 हजार, मफलर 5 लाख, कोट 10 लाख, जानिए खासियत
photo by me

यह भी पढ़े — uorfi javed: पठान विवाद में कूद पड़ी उर्फी जावेद, भगवा कलर में हुस्न का बिखेरा जलवा

यह भी पढ़े — Mouni Roy ने तोड़ी बोल्डनेस की सारी हदें, ब्लैक 2 पीस बिकिनी में लहरों के बीच कराया फोटोशूट

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular