Wednesday, February 1, 2023
HomeMadhya PradeshVindhyaSingrauli नगर निगम कमिश्नर को सताने लगा डर , व्यवसायिक प्लाजा को...

Singrauli नगर निगम कमिश्नर को सताने लगा डर , व्यवसायिक प्लाजा को सील करने के दिये आदेश, मेयर से मिले व्यापारी

- Advertisement -
- Advertisement -

नगर निगम आयुक्त पवन कुमार सिंह के प्लाजा में संचालित दुकानों को सील किये जाने को लेकर आज गुरूवार को व्यापारियों ने मेयर व निगम आयुक्त से मेल मुलाकात की। जहां निगम आयुक्त व मेयर ने उचित निर्णय लेते हुए कार्रवाई का आश्वासन दिया है।


सिंगरौली – नगर निगम अपने कामों को लेकर हमेशा से सुर्खियों में रहा है चाहे जुड़वा तालाब हो या फिर व्यवसायिक प्लाजा लेकिन इन दिनों जिस तरह से व्यवसायिक प्लाजा में भ्रष्टाचार कर गुणवत्ता विहीन बनाया गया है कि अब जिले में आए नगर निगम आयुक्त पवन कुमार सिंह को डर सताने लगा है उन्होंने कोई अनहोनी ना हो इसके मद्देनजर वेबसाइट प्लाजा को सील करने का आदेश दे दिया. अब व्यवसायियों के विरोध के बाद नगर निगम कमिश्नर और मेहर आज व्यवसाई प्लाजा का निरीक्षण करेंगे.


दरअसल निगम आयुक्त पवन कुमार सिंह के प्लाजा में संचालित दुकानों को सील किये जाने के आदेश के बाद आज गुरूवार को व्यापारी मेयर व निगम आयुक्त से मेल मुलाकात की। जहां मेयर व कमिश्रर ने व्यवसायिक प्लाजा में संचालित दुकानों के संचालकों को आश्वस्त किया कि आपकी सुविधा अनुसार दुकानों की रिपेयरिंग या नये सिरे से निर्माण कराया जायेगा। इंजीनियर को बुलाकर जांच कराने के बाद ही निर्णय लिया जायेगा। तब तक आप लोगों को अन्यत्र नहीं हटाया जायेगा। साथ ही निगम आयुक्त ने दुकानदारों को बताया कि कल शुक्रवार को सायं तकरीबन 4-5 बजे मेयर व मेरे द्वारा बैठक करते हुए दुकानों का निरीक्षण किया जायेगा। बैठक के दौरान संयुक्त व्यापार मण्डल के अध्ययक्ष राजाराम केशरी, उपाध्यक्ष अभिलाष जैन, सचिव अजय जायसवाल सदस्य के रूप में प्रमोद जैन, संजय केशरी, विनोद जायसवाल, गोपी जायसवाल सहित अन्य मौजूद रहे।


सफाई के नाम पर दो सौ रूपये की जा रही वसूली
बैठक के दौरान व्यापार मण्डल के अध्यक्ष राजाराम केशरी ने निगम आयुक्त व मेयर को बताया कि सफाई के नाम पर दुकानदारों से 200 रूपये की वसूली की जाती है। जबकि यह गलत है। व्यापारी लोग दुकानों का किराया भू-भाटक, संपत्तिकर सहित तमाम तरह के टैक्स भी वसूले जाते हैं। इसलिए न्यूनतम चार्ज साफ-सफाई के लिए निर्धारित किया जाय। साथ ही त्यौहार के दिनों में तरह-तरह के जांच पड़ताल दुकानदारों पर की जाती है। जिससे इसका व्यापार पर बुरा प्रभाव पड़ता है। त्यौहार के समय इस तरह की कार्रवाई न करते हुए इसके पहले कभी भी कराई जाय। साथ ही फल, सब्जी व्यवसायियों को अभी जहां दुकानें संचालित हो रही हैं उन्हें भी वहां से न हटाया जाये।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular