Tuesday, January 31, 2023
HomeMadhya PradeshSingrauli Dream 11 winner : सिंगरौली का शिक्षक 49 रुपए लगाकर रातो...

Singrauli Dream 11 winner : सिंगरौली का शिक्षक 49 रुपए लगाकर रातो रात बन गया करोड़पति,मुफलिसी में गुजार रहा था दिन

- Advertisement -
- Advertisement -

Singrauli Dream 11 winner: कहते हैं कि भगवान जब देता है तो छप्पर फाड़ के देता है कुछ ऐसा ही हुआ सिंगरौली में एक गेस्ट टीचर के साथ जिसकी किस्मत कुछ ही घंटे में बदल गई. ऑनलाइन एप पर क्रिकेट की ड्रीम टीम बनाकर उसने एक करोड़ रुपये जीते हैं.

Singrauli Dream 11 winner: सिंगरौली जिले के एक आदिवासी गरीब परिवार के युवक की अचानक किस्मत बदल गई . रामेश्वर सिंह उम्र (24) वर्ष इतने गरीब परिवार से हैं कि, रहने के लिए अच्छा मकान तक नहीं है. कच्चे मकान में गुजर-बसर करने वाले रामेश्वर परिवार का भरण पोषण करने के लिए एक स्कूल में अतिथि शिक्षक की नौकरी करते हैं. अब अचानक रातों रात उनकी किस्मत का ताला खुलने के बाद इलाके में हर्ष का माहौल है. गांव के लोग उन्हें मिठाई खिलाकर बधाई दे रहे हैं।

Singrauli Dream 11 winner: सिंगरौली  बिना क्रिकेट का बल्ला या गेंद उठाए उसने खर्च किए महज 49 रुपए और जीत लिए पूरे 1 करोड़ रुपये. जी हां, हम बात कर रहे हैं सिंगरौली जिले के आदिवासी गरीब परिवार की. बिंदुल गांव में रहने वाले रामेश्वर सिंह ने भारत और ऑस्ट्रेलिया सीरीज के मैच में ड्रीम 11 (Dream 11) पर अपनी टीम बनाई और वो विनर बन गए. घर बैठे-बैठे 1 करोड़ रुपये जीतने की इस कामयाबी पर पूरे इलाके में खुशी का माहौल है. अभी तक अतिथि शिक्षक मुफलिसी में जीवन गुजार रहा था.

Singrauli Dream 11 winner: भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच सोमवार को टी-20 वार्म अप मैच था. उन्होंने 49-49 रुपए की 9 ड्रीम टीमें बनाई थी. इनमें से उनकी एक टीम ने पहला स्थान हासिल किया. रामेश्वर और उनका परिवार जीत के बाद खुश है. इतना ही नहीं परिवार और गांव के लोग भी मिठाई खिलाकर जीत की बधाई दे रहे हैं. रामेश्वर सिंह शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय धनगढ़ में पदस्थ हैं. यहां वह अतिथि शिक्षक के रूप में बच्चों को पढ़ाते हैं. वह Dream-11 में लगातार खेल रहे थे, लेकिन सोमवार को उनका करोड़पति बनने का सपना साकार हो गया.

Singrauli Dream 11 winner: दो साल से थी जीत की उम्मीद फोन पर जानकारी देते हुए रामेश्वर सिंह ने बताया कि, “मैं बहुत गरीब परिवार से हूं. रामेश्वर के पिता जगजाहिर सिंह किसान हैं. उनके परिवार का खेती-किसानी से गुजारा होता है. रामेश्वर ने गरीबी की हालात का सामना करते हुए एमएससी की पढ़ाई पूरी की.  हमें Dream-11 से हमेशा यह उम्मीद थी कि, एक दिन यह जीत मेरे हिस्से में आएगी. मैं पिछले 2 वर्षों से Dream-11 पर टीम बनाता था. कई बार हार सामने आई लेकिन मैंने हार नहीं मानी. मुझे विश्वास था कि, एक ना एक दिन मैं करोड़पति बनूंगा और आज मैं 1 करोड़ रुपये जीतकर अपना सपना साकार कर लिया है

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular