Wednesday, February 1, 2023
HomeViral VideoMP Viral video: अचानक घूमने लगा शिवलिंग के ऊपर जल से भरा...

MP Viral video: अचानक घूमने लगा शिवलिंग के ऊपर जल से भरा कलश , नर्मदेश्वर महादेव मंदिर में हुआ चमत्कार

- Advertisement -
- Advertisement -

MP Viral video: दीपावली के दूसरे दिन परीवा माना जाता है यह दिन महत्वपूर्ण और तब हो जाता है जब इस दिन सूर्य ग्रहण भी हो. पूजा पाठ होने के बाद मंदिर के पट बंद कर दिए जाते हैं. वही इस बीच मध्य प्रदेश के एक मंदिर में वहां के पुजारी ने कुछ ऐसे देखा जिससे उसको अपनी आंखों पर यकीन करना मुश्किल हो रहा था. वही श्रद्धालु जल से भरे कलश को चमत्कार मान रहे हैं. जिसका वीडियो अब तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

MP Viral video: मध्य प्रदेश के धार जिले के धामनोद नगर में स्थित बावड़ी मोहल्ले के नर्वदेश्वर मंदिर में शिवलिंग के ऊपर बधा हुआ जल से भरा कलश अचानक तेजी से घूमने लगा. मंदिर के पुजारी ने देखा कि नर्मदेश्वर महादेव मंदिर में शिवलिंग के ऊपर बंधा हुआ जल से भरा कलश अचानक तेजी से घूमने लगा. इस अद्भुत घटना को देखने वालों की भीड़ लग गई.मंदिर में इस चमत्कार को देख पुजारी सहित भक्त भगवान के चमत्कार को देखने के बाद आस्था और भक्ति में पूजा पाठ शुरू कर दी. नर्मदेश्वर महादेव मंदिर के गर्भ गृह के भीतर के इस चमत्कार का वीडियो नई दुनिया ने अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर किया है.

मालूम हो कि आज सूर्य ग्रहण है और सूतक से पहले नर्मदेश्वर महादेव मंदिर के पुजारी रात 4:00 बजे पूजा पाठ के बाद मंदिर के पट बंद कर दिए थे लेकिन लेकिन भगवान भोलेनाथ के भक्त प्रतिदिन दर्शन करने के लिए मंदिर पहुंचे थे. पट बंद होने के कारण भक्त मंदिर के शिखर का दर्शन करते हुए भगवान मंदिर में जाली से ग्रह में पड़ी तो वहां शिवलिंग के ऊपर लगा जल से भरा कलश पेंडुलम की तरह घूम रहा था इस बात की जानकारी भक्तों ने दूसरे लोगों को दी.

दरअसल सुबह एक श्रद्धालु ने जब बंद मंदिर में भगवान के शिव लिंग के ऊपर घड़ी के पेंडुलम की तरह कलश को झूलते देखा तो मोहल्ले के अन्य लोगों को सूचित किया ओर धीरे-धीरे यह खबर पूरे धामनोद में आग की तरह फैल गई वहां मंदिर में श्रद्धालुओं का तांता लग गया। मंदिर के पुजारी और श्रद्धालुओं के अनुसार आज सूर्य ग्रहण होने से सुबह 4:00 बजे के लगभग भगवान को भोग लगाकर पूजन पाठ कर मंदिर के पट बंद कर दिए गए थे और मंदिर के मुख्य द्वार पर भी ताला लगा दिया गया था.

शिवलिंग के ऊपर लगा कलश अभी तक लगातार हिल रहा है जिसे श्रद्धालु चमत्कार मान रहे हैं वजह यह भी है कि मंदिर में एकमात्र गेट के अलावा हवा जाने का भी कोई रास्ता नहीं है बावजूद इसके कलश का घूमना भगवान का चमत्कार मान रहे हैं. बताया जा रहा है कि नर्मदेश्वर महादेव मंदिर लगभग 500 वर्ष पुराना है और धरमपुरी क्षेत्र में निकलने वाला भगवान शिव के डोले की शुरुआत भी इसी मंदिर से की जाती है. यह मंदिर हजारों लोगों की आस्था का केंद्र है ऐसे में इस घटना को श्रध्दालु सूर्य ग्रहण के दिन भगवान का कोई बड़ा चमत्कार या संकेत मान रहे हैं.

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular