Wednesday, February 14, 2024
HomeMadhya PradeshVindhyaSidhi : कुसमी में 16 नवंबर को ‘‘वनवासी लीलाओं‘‘ की 2 दिवसीय...

Sidhi : कुसमी में 16 नवंबर को ‘‘वनवासी लीलाओं‘‘ की 2 दिवसीय होंगी प्रस्तुतियां , CM शिवराज की कार्यक्रम में रहेगी नजर

- Advertisement -
- Advertisement -

मध्यप्रदेश शासन, संस्कृति विभाग एवं जिला प्रशासन के सहयोग से होगी ‘‘वनवासी लीलाओं‘‘ की प्रस्तुतियां

सीधी 13 नवम्बर 2022 – मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की घोषणा के परिपालन में मध्यप्रदेश शासन, संस्कृति विभाग द्वारा तैयार रामकथा साहित्य में वर्णित वनवासी चरितों पर आधारित ‘‘वनवासी लीलाओं‘‘ क्रमशः भक्तिमती शबरी और निषादराज गुह्य की प्रस्तुतियां जिला प्रशासन के सहयोग से प्रदेश के 89 जनजातीय ब्लॉकों में होंगी। इसी क्रम में जिला प्रशासन-सीधी के सहयोग से दो दिवसीय वनवासी लीलाओं की प्रस्तुतियां आयोजित की जा रही हैं। मीडिया रिपोर्ट की माने तो सीएम शिवराज सिंह चौहान की कोसमी में होने वाले बनवासी लीलाओं पर नजर रहेगी.

प्रस्तुतियों की श्रृंखला में बालक उत्कृष्ट विद्यालय परिसर, कुसमी (सीधी) में 16 नवंबर 2022 को विनोद मिश्रा एवं साथी रीवा द्वारा भक्तिमति शबरी की प्रस्तुति दी जायेगी। कार्यक्रम के दूसरे दिन 17 नवंबर 2022 को भारती सोनी सीधी द्वारा निषादराज गुह्य की प्रस्तुति दी जायेगी। इन दोनों ही प्रस्तुति का आलेख योगेश त्रिपाठी एवं संगीत संयोजन मिलिन्द त्रिवेदी द्वारा किया गया है। कार्यक्रम प्रतिदिन सायं 7 बजे से आयोजित किया जायेगा।

लीला की कथाएं-

वनवासी लीला नाट्य भक्तिमति शबरी कथा में बताया कि पिछले जन्म में माता शबरी एक रानी थीं, जो भक्ति करना चाहती थीं लेकिन माता शबरी को राजा भक्ति करने से मना कर देते हैं। तब शबरी मां गंगा से अगले जन्म भक्ति करने की बात कहकर गंगा में डूब कर अपने प्राण त्याग देती हैं। अगले दृश्य में शबरी का दूसरा जन्म होता है और गंगा किनारे गिरि वन में बसे भील समुदाय को शबरी गंगा से मिलती हैं। भील समुदाय शबरी का लालन-पालन करते हैं और शबरी युवावस्था में आती हैं तो उनका विवाह करने का प्रयोजन किया जाता है लेकिन अपने विवाह में जानवरों की बलि देने का विरोध करते हुए, वे घर छोड़ कर घूमते हुए मतंग ऋषि के आश्रम में पहुंचती हैं, जहां ऋषि मतंग माता शबरी को दीक्षा देते हैं।

बताते हैं कि आश्रम में कई कपि भी रहते हैं जो माता शबरी का अपमान करते हैं। अत्यधिक वृद्धावस्था होने के कारण मतंग ऋषि माता शबरी से कहते हैं कि इस जन्म में मुझे तो भगवान राम के दर्शन नहीं हुए, लेकिन तुम जरूर इंतजार करना भगवान जरूर दर्शन देंगे। लीला के अगले दृश्य में गिद्धराज मिलाप, कबंद्धा सुर संवाद, भगवान राम एवं माता शबरी मिलाप प्रसंग मंचित किए गए। भगवान राम एवं माता शबरी मिलाप प्रसंग में भगवान राम माता शबरी को नवधा भक्ति कथा सुनाते हैं और शबरी उन्हें माता सीता तक पहुंचने वाले मार्ग के बारे में बताती हैं। लीला नाट्य के अगले दृश्य में शबरी समाधि ले लेती हैं।

वनवासी लीला नाट्य निषादराज गुह्य में बताया कि भगवान राम ने वन यात्रा में निषादराज से भेंट की। भगवान राम से निषाद अपने राज्य जाने के लिए कहते हैं लेकिन भगवान राम वनवास में 14 वर्ष बिताने की बात कहकर राज्य जाने से मना कर देते हैं। आगे के दृश्य गंगा तट पर भगवान राम केवट से गंगा पार पहुंचाने का आग्रह करते हैं लेकिन केवट बिना पांव पखारे उन्हें नाव पर बैठाने से इंकार कर देता है। केवट की प्रेम वाणी सुन, आज्ञा पाकर गंगाजल से केवट पांव पखारते हैं। नदी पार उतारने पर केवट राम से उतराई लेने से इंकार कर देते हैं।

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular