Wednesday, February 1, 2023
HomeNationalभारत के 5 अमीर चाय वाले जो चाय बेच बने करोड़पति,MP का...

भारत के 5 अमीर चाय वाले जो चाय बेच बने करोड़पति,MP का 1 चाय वाला इंदौर-भोपाल- रीवा- सिंगरौली से कमा रहा करोड़ों

- Advertisement -
- Advertisement -

India’s 5 rich tea sellers became millionaires by selling tea, MP’s chaiwala earning crores from Indore-Bhopal-Rewa-Singrauli

भारत मे 80 प्रतिशत लोगों की दिन की शुरुआत शायद तब शुरू होती है जब वह एक कप चाय पी लेते हैं.चाय की चाहत( chai ki Chahat) में लोग इस कदर दीवाने हैं कि वह बेड चाय (Bed tea) पीना पसंद करते हैं लोगों का मानना है कि चाय पीने से थकान के साथ दिन की एक तरोताजा (refreshing) बेहतरीन शुरुआत होती है. कई लोग चाय के इतने आदी होते हैं कि सुबह दोपहर और शाम उन्हें तीनो टाइम चाहिए नहीं मिलने पर वह ठेला कैसे चले जाते हैं. आज हम ऐसे ही कुछ लोगों की बात करेंगे जो चाय बेचकर एक सक्सेज बिजनेस में प्रसिद्धि हासिल की है.

बताने की कई ऐसे लोग हैं जो अच्छी पढ़ाई लिखाई करने के बाद तो कहीं बड़ी कंपनियों की नौकरी छोड़ वह चाय के व्यापार में इतनी तरक्की हासिल की है कि आज वह जिस मुकाम पर हैं वहां पहुंचना हर किसी का सपना होता है कई ऐसे लोग हैं जो इस चाय का बिजनेस कर करोड़पति बन गए हैं हमारे पास कुछ ऐसे ही लोगों की लिस्ट है जो चाय के व्यापार से एक कामयाब बिजनेसमैन के तौर पर खुद को स्थापित किए हैं तो आइए जानते हैं इन चाय के बिजनेसमैनों के बारे में.

1. एमबीए चायवाला


प्रफुल्ल बिल्लोर (Prafull Billore) यानी एमबीए चायवाला (MBA Chai Wala) चाय की बिजनेस में इतने कामयाब हुए कि कई युवा इनको अपना आइडल मानते हैं यह अपने मेहनत और लगन से भारत के सबसे कम उम्र के करोड़पतियों में शुमार हैं। इनका जन्म 14 जनवरी 1996 में मध्य प्रदेश के धार जिले में हुआ था। उनका जन्म एक हिंदू परिवार में हुआ है। उन्होंने अपनी बीकॉम की पढ़ाई भी अधूरी छोड़ दी और चाय के कारोबार में लग गए। उनका सपना था कि वो एमबीए करें। और अपने इसी सपने को पूरा करने के लिए उन्हें चाय का ठेला लगाया। अपने चाय के ठेले के लिए उन्हें अपने पिता से 8 हजार उधार लिए। यहाँ से उनके बिजनेसमैन बनने का सफर शुरू हुआ। आज उनकी सालाना इनकम करीब 4 करोड़ पहुंच गई है। भारत के करीब-करीब हर बड़े शहर में आउटलेट है और दूसरे देशों में भी कारोबार चल रहा है। इनकी कई फ्रेंचाइजी में बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार भी मिल रहा है।

2. चाय पॉइंट

अमूलेक सिंह बिजराल (Amuleek Singh Bijral) रेल ने में चाय पॉइंट की स्थापना की थी. उनके इस चाय पॉइंट का आदर्श वाक्य “इंडिया रन ऑन चाय” (“India Run on Chai”) भारतीयों का चाय के प्रति प्रेम का लगाव दिखाता हैं. चाय प्वॉइंट (Chai Point) भारत का पहला चाय स्टार्टअप है, चाय पॉइंट की स्थापना बेंगलुरु के कर्नाटक शहर में की गई. 2010 में शुरू हुए चाय प्वाइंट अब माउंटेन ट्रेल फूड प्राइवेट लिमिटेड का पार्ट है। हालांकि अमूलेक सिंह काफी पढ़े लिखे हैं। वे हार्वर्ड बिजनेस स्कूल से एमबीए हैं .उनका दावा है कि वे हर रोज़ 3,00,000 कप रोज़ाना बेचते हैं। दुनिया भर में उनके 100 से ज्यादा आउटलेट्स हैं। एक रिपोर्ट की मानें तो में इन का टर्नओवर 88 करोड़ था जोकि अब बढ़कर 190 करोड़ हो चुका है।

India’s 5 rich tea sellers became millionaires by selling tea, MP’s chaiwala earning crores from Indore-Bhopal-Rewa-Singrauli

3. चायोस


आईआईटीयन नितिन सलूजा (IIT Nitin Saluja) और राघव वर्मा (Raghav Verma) के दिमाग में साल 2012 में चाय बेचने का बिजनेस आइडिया आइडिया आया। उन्होंने चायोस (Chaayos) नाम से स्टार्टअप शुरू करने का फैसला किया और उस ऊंचाई पर पहुंचे कि लोग उनके आईडिया के मुरीद हो गए। नितिन आईआईटी बॉम्बे से पढ़ाई की तो वहीं तो वही राघव वर्मा आईआईटी दिल्ली से पढ़ाई पूरी की है । उन्होंने 2 नवंबर को गुरुग्राम में पहला आउटलेट खोला था। उन्होंने चाय की 25 अलग अलग वैराइटी बनाकर लोगों की नजर में आए थे । अब तक दोनों ने 6 शहरों में 90 से ज्यादा स्टोर शुरू कर चुके हैं और साल के अंत तक 100 और जोड़ने की योजना बना रहे हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार बीते वर्ष में इनका राजस्व लगभग 1000 करोड़ रुपये का था।

4. Chai सुट्टा बार


चाय सुट्टा बार अनुभव दुबे (Anubhav Dubey), आनंद नायक (Anand Nayak) और राहुल पाटीदार (Rahul Patidar) के साथ सालौफं अब 2016 में इंदौर के गर्ल्स कॉलेज के बाहर एक चाय कैफे खोली। अनुभव दुबे कैफे खोलने से पहले सी ए बनना चाहते थे. उसमें असफलता हाथ लगने पर यूपीएससी करने का फैसला किया। यूपीएससी में भी असफल रहने पर उन्होंने अपने दोनों दोस्तों के साथ मिलकर चाय सुट्टा बार कैफे खोली। कुल्हड़ में उनका चाय पिलाना लोगों को पसंद आया. आज देशभर में इन के द्वारा खोली गयी चाय सुट्टा बार अपने स्वाद के लिए जानी जाती है. इन दिनों मध्य प्रदेश के हर बड़े शहरों में इसकी फ्रेंचाइजी मिल जाएगी.

5. चाय ठेला


पंकज जज ने 2014 में चाय ठेला खोला था । पंकज जज ने इससे पहले एक बिजनेस में असफल होने के बाद फाइनेंशियर रूप से काफी पुअर स्थिति में थे. ऐसे में वह कम पूंजी पर अपना खुद का व्यवसाय शुरू करना चाहते थे उन्होंने अपने तीन दोस्तों तरनजीत सपरा पीयूष भारद्वाज और बिश्नीत सिंह के साथ चाय ठेले को खोलने का फैसला किया आज इसके दुनिया भर में कई आउटलेट है जिसका करोड़ों में टर्नओवर है.

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular