Friday, March 1, 2024
HomeHoroscopeGuru's Remedy: ज्योतिष के इस उपाय से बिना डाइटिंग से दूर होगा...

Guru’s Remedy: ज्योतिष के इस उपाय से बिना डाइटिंग से दूर होगा मोटापा

- Advertisement -

Guru’s Remedy: ज्योतिष में मोटापे को बुध और बृहस्पति से जोड़ा जाता है। जानिए कैसे आप बिना डाइटिंग(dieting) के मोटापे से छुटकारा पा सकते हैं।

- Advertisement -

गुरु लग्न: ज्योतिष शास्त्र में शरीर में हर चीज के लिए किसी न किसी ग्रह को जिम्मेदार माना गया है। रक्त(rakt) संबंधी रोगों के लिए मंगल, पैरों के लिए शनि, मानसिक समस्याओं के लिए चंद्रमा(chandrama) को मुख्य कारण बताया गया है। एक प्रकार का मोटापा(motaapa) बुध और बृहस्पति (या बृहस्पति) से जुड़ा है। ज्योतिष पर आधारित डाइटिंग(dieting) कैसे मोटापे से छुटकारा पाने में आपकी मदद कर सकती है, यह जानने के लिए इस लेख को पढ़ें. Guru’s Remedy

ज्योतिष में मोटापा दो प्रकार का होता है। उनमें से सबसे पहले किसी भी मोटापे का कारण अधिक खाना था। दूसरे शब्दों में, मोटापा व्यवहार का कारण बनता है, जैसे कि हम कुल जितना हिसाब नहीं रखते हैं। अगर ऐसा है तो ज्योतिष के बाद पर हम टोपे का पुदेश को जोजे तो बाभ हो बाउर. Guru’s Remedy

सेवन का कारण था मोटापा
गुरु के शरीर में चर्बी का कारण। यदि गुरु मुख्य जन्मकुंडली है तो व्यक्ति सामान्य लोगों की तुलना में मोटा होगा। यदि किसी कारणवश गुरु छठ भव हो तो ऐसा जातक मोटापा, दंत बीमा, पेट का कैंसर, पीलिया, लीवर संबंधित बीमा, माइग्रेन, अनिद्रा से पीड़ित हो सकता है। गुरु का मार्ग बिमारियों में कर से मुक्ति पाना है।

इसी तरह का पारा भी कुछ हद तक चर्बी में मिलाया जाता है। बुध का गुण बुध के कारण होता है। यदि इसे लेना बुरा है तो व्यक्ति को खाने के लिए और अधिक इच्छुक हो जाता है। ऐसी स्थिति में व्यक्ति आपको नियंत्रित करना चाहता है, लेकिन पत्ते नहीं। अंततः वह मोटा हो जाता है क्योंकि वह बहुत अधिक खाता है. Guru’s Remedy

यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि कुछ लोग पक्के तौर पर खाते हैं, कभी नहीं। इसके पीछे क्या कारण है और दोनों ग्रहों का उनकी जन्म कुंडली में क्या संबंध है। ज्योतिषियों के अनुसार यदि बुध और गुरु की पूजा की जाए तो व्यक्ति को निश्चित रूप से मोटापे से मुक्ति मिल सकती है। मोटापा दूर करने का ज्योतिषीय उपाय. Guru’s Remedy

बुध-गुरु को मिलेगी मोटापे से मुक्ति
विज्ञान में पीपल के पेड़ के गुरु का कारण। गुरु की साधना के लिए पीपल के पेड़ों को सूर्योदय के समय ही पानी देना चाहिए। इसके बाद देसी घी के गहरे पानी और गायत्री मंत्र से पीपल के पेड़ की 108 बार परिक्रमा करें। इस उपाय से न केवल मोटापे से मुक्ति मिलती है बल्कि अन्य अशुभ ग्रहों के दुष्प्रभाव भी समाप्त होते हैं।

ऐसा ही बुध भी अनुकूल होने का संकल्प करता है। उसके लिए प्रतिदिन गणेशजी को दूर्बा (डब) अर्पित करना आवश्यक है। प्रत्येक बुधवार को गजानन गणपति की पूजा करें और उन्हें मूंग के लड्डू का भोग लगाएं। इस प्रकार बुध तथा अन्य सभी ग्रहों के कष्ट शांत हुए. Guru’s Remedy

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular