Wednesday, February 1, 2023
HomeNationalSleeping in sweater: सर्दियों में भूलकर भी स्‍वेटर पहन कर ना सोयें,...

Sleeping in sweater: सर्दियों में भूलकर भी स्‍वेटर पहन कर ना सोयें, वरना इस बीमारी के हो जायेंगे श‍िकार

- Advertisement -

Sleeping in sweater : सर्दी के मौसम में हम सर्दी से बचने के लिए ऊनी कपड़े(woolen cloth) पहनकर अपनी सुरक्षा करते हैं। लेकिन अक्सर लोग ऊनी स्वेटर, टोपी, मोजे(woolen sweater, hat, socks) पहन कर ही सो जाते हैं जो सेहत(Health) के लिए बहुत हानिकारक होते हैं।

Sleeping in sweater : सर्दियों के मौसम में हम गर्म ऊनी कपड़े पहनकर खुद को ठंड से बचाने की कोशिश करते हैं। क्योंकि ऊन एक तापीय चालक(thermal conductor) है और इसके तंतुओं के बीच गर्म होता है। तो हमारे शरीर द्वारा उत्पन्न गर्मी लॉक(lock) हो जाती है और बच नहीं सकती है।

- Advertisement -

अक्सर देखा गया है कि लोग रात में अपने घरों में भी ऊनी कपड़े पहनकर सोते हैं। लेकिन ये छोटी सी लापरवाही हमारी सेहत को नुकसान पहुंचा सकती है. आइए जानते हैं कि ऊनी कपड़ों में क्यों नहीं सोना चाहिए.

बेचैनी, घबराहट, लो ब्लड प्रेशर की शिकायत हो सकती है

Sleeping in sweater: सर्दियों में भूलकर भी स्‍वेटर पहन कर ना सोयें, वरना इस बीमारी के हो जायेंगे श‍िकार
photo by google

विशेषज्ञों के अनुसार सर्दियों में रक्त वाहिकाएं सिकुड़ जाती हैं। ऊनी कपड़े पहनना और रुई में सोना हमारे शरीर को गर्म करता है, लेकिन कभी-कभी यह बेचैनी, घबराहट, निम्न रक्तचाप का कारण बन सकता है। जो आपकी सेहत के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। अगर गर्म कपड़े पहनने हैं तो थर्मोकोट पहना जा सकता है. Sleeping in sweater

एलर्जी और खुजली की समस्या

Sleeping in sweater: सर्दियों में भूलकर भी स्‍वेटर पहन कर ना सोयें, वरना इस बीमारी के हो जायेंगे श‍िकार
photo by google

ऊनी कपड़ों में सोने से एलर्जी और खुजली हो सकती है। यदि आपकी त्वचा कोमल और मुलायम है, तो ऊनी कपड़ों से जलन होने की संभावना कम होती है। लेकिन अगर आपकी त्वचा रूखी है तो बाल भी सख्त हो जाते हैं, जिसकी वजह से उनमें खिंचाव ज्यादा होता है। इससे त्वचा पर रैशेज आदि की समस्या हो जाती है, इसलिए सर्दियों में स्वेटर पहनकर सोना नहीं चाहिए। स्वेटर पहनने से पहले पूरे शरीर पर अच्छी क्वालिटी का बॉडी लोशन लगाएं। इससे त्वचा में नमी बनी रहेगी और एलर्जी होने की संभावना कम होगी. Sleeping in sweater

मधुमेह और हृदय रोग के जोखिम कारक

Sleeping in sweater: सर्दियों में भूलकर भी स्‍वेटर पहन कर ना सोयें, वरना इस बीमारी के हो जायेंगे श‍िकार
photo by google

ऊनी कपड़े के रेशे आमतौर पर सूती कपड़े के रेशों की तुलना में मोटे होते हैं। उनके बीच में कई छोटे एयर पॉकेट होते हैं जो एक इन्सुलेटर के रूप में कार्य करते हैं। सर्दियों में गर्म रखने के लिए हम गोद में या कम्बल के अंदर सोते हैं। और अगर हम ऊनी कपड़े पहनते हैं तो भी ऊनी कपड़े के रेशे हमारे शरीर की गर्मी को रोकते हैं। ऐसे में सर्दी के मौसम में स्वेटर और रजाई की गर्मी डायबिटीज के मरीजों खासकर दिल के मरीजों के लिए खतरा बन सकती है. इसलिए उनके स्वेटर में सोना नही चाहिए. Sleeping in sweater

ऊनी मोजे पहनकर सोना है हानिकारक

Sleeping in sweater: सर्दियों में भूलकर भी स्‍वेटर पहन कर ना सोयें, वरना इस बीमारी के हो जायेंगे श‍िकार
photo by google

विशेषज्ञ इस बात से भी सहमत हैं कि ऊन में अच्छा थर्मल इन्सुलेशन होता है, लेकिन यह पसीने को अच्छी तरह से अवशोषित नहीं करता है। इससे बैक्टीरिया पनपते और बढ़ते हैं। छाले भी हो सकते हैं। चूंकि हमारे पैर शुष्क और गर्म वातावरण की तरह होते हैं, इसलिए कपास से बने मोज़े हमारे पैरों के लिए आरामदायक नहीं होते हैं और पसीने को भी अच्छी तरह से अवशोषित करते हैं। इसलिए रात को सोते समय ऊनी मोजे की जगह सूती मोजे पहनने की सलाह दी जाती है।

अगर बहुत जरूरी है…

Sleeping in sweater: सर्दियों में भूलकर भी स्‍वेटर पहन कर ना सोयें, वरना इस बीमारी के हो जायेंगे श‍िकार
photo by google

यदि यह सर्दियों में बहुत महत्वपूर्ण है और आपके पास कोई दूसरा विकल्प नहीं है, तो ऐसी स्थिति में हमेशा पहले सूती या रेशमी कपड़े और ऊपर ऊनी कपड़े पहनने की सलाह दी जाती है। लेकिन ऐसा तभी करें जब बेहद जरूरी हो. Sleeping in sweater

यह भी पढ़े — Mohammad Mustaq अहमद ने सगी बेटी के साथ किया बलात्कार ,कंगना बोली – कुछ बोलना है इस पर ??

यह भी पढ़े — Film में इंटीमेट सीन करते हकीकत में बेकाबू हो गए थे एक्ट्रेस , साथी कलाकार हो गए थे हैरान

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular