Saturday, April 13, 2024
HomeBusinessCrop Cultivation: चीन ने तैयार किया धान की यह किस्म, एक बार...

Crop Cultivation: चीन ने तैयार किया धान की यह किस्म, एक बार बोए और 8 साल तक काटते रहे

- Advertisement -

Crop Cultivation: वर्ष में केवल एक बार ही एक फसल(fasal) के लिए बीज बोए जा सकते हैं। अगले साल फिर वह इस प्रक्रिया में था। लेकिन चीन(china) ने एक ऐसा बीज ईजाद किया है, जिसे एक बार बोने के बाद 8 साल(year) नहीं लगेंगे.

- Advertisement -

बुवाई के 8 साल बाद उपज देगी चीन की चावल की किस्म: चीन(china) ने एक ही फसल लगाने के 8 साल बाद इस नई तकनीक(technology) में महारत हासिल कर ली है।
चीनी चावल प्रजाति एक बार बोने के बाद 8 साल की जन्म की देवी है. Crop Cultivation

गेहूं के बीज : फसल बर्बाद होने का दर्द किसान ही समझ सकते हैं। हर साल अलग-अलग बीज बोएं। सभी बीज मौसमी थे। क्या बीज बोया जा सकता है, क्या बीज बोया जा सकता है। लेकिन बीज मिल गया तो क्या, बरसों बाद की टेंशन खत्म हो जाएगी। एक बार नाव अपने आप खो गई। यह वह था जिसने चीनियों द्वारा तकनीक विकसित की थी। चीन के कई किसानों की टेंशन काफी हद तक खत्म हो गई है. Crop Cultivation

PR23 चावल की अपनी किस्म से अलग है

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन काफी समय से इसके बीज विकसित कर रहा है। हाल ही में चीन में PR23 नामक चावल की एक नई किस्म विकसित की गई है। वैज्ञानिक कहते हैं कि अगर एक बार फल लग जाए तो अगले साल दो बार लगाने की जरूरत नहीं है। यह बीज से 4 से 8 साल तक अपने आप काम करता है. Crop Cultivation

सभा से निकलकर नई जगह पर आ जाओ

इस बीज की खास बात यह है कि यह दोगुनी तेजी से अंकुरित होगा। वैज्ञानिकों के पास शोध करने का समय था कि PR23 चावल शारीरिक रूप से मजबूत था या नहीं। इस फसल को काटने पर भी इसके गुच्छे से एक नया वसंत निकलता है। इस नए तालाब में खेती भी तेजी से हो रही है, पहली सफल फसल आगे बढ़ रही है। समय रहते किसान मिल गए. Crop Cultivation

वर्ना ब्रीडिंग से जानवरों का विकास हुआ

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, PR23 नस्ल को नियमित वार्षिक कल्टीवेटर ओराइजा सैटिवा के रंग-प्रजनन से विकसित किया गया था, जो अफ्रीका में एक वन बारहमासी किस्म है। उत्पादन में PR23 गुणवत्ता का भी समर्थन किया जाता है। अगर इसका इस्तेमाल किया जाए तो यह 6.8 टन प्रति हेक्टेयर हो सकता है। किसानों के लिए लागत की बात आती है तो यह भी उपयुक्त है। उर्वरक की आवश्यकता बहुत कम थी. Crop Cultivation

1970 से शोध चल रहा था

1970 के बाद से युन्नान अकादमी चावल ने एक विषय के रूप में नई प्रजातियों पर शोध किया है। पहले उन्हें सफलता नहीं मिली। 1990 से यह काम फिर से शुरू किया गया है। बाद में कुछ उत्साहजनक परिणाम सामने आने लगे। चावल शोध संस्थान ने 1995 से 2001 के बीच यह काम शुरू किया। पीआर 23 प्रजातियों को विकसित किया गया है। साल 2018 से यह बीज चीन के बाजार में है. Crop Cultivation

यह भी पढ़े — Flower Farming : बंजर जमीन पर करें ‘जादुई फूलों’ की खेती, 4 गुना से ज्यादा कमा रहे किसान 

यह भी पढ़े — Potato Farming: जमीन के नीचे नहीं  अब हवा में उगाएं आलू, किसानों को होगा बड़ा लाभ 

- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular